आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

बुधवार, मई 19, 2010

नेवी शिप आईएनएस राणा पर एक दिन

इस संडे को मैं भारतीय नौसेना के जहाज देखने गई. अंडमान में आ तो गई हूँ, पर अभी तक जल यान की सैर करना बाकी है. अक्सर हेलीकाप्टर या क्रूज से ही हम लोग घूमने जाते हैं. पर अब सोच रही हूँ कि पानी के जहाज में भी किसी दिन सैर कर आऊं।
पिछले दिनों पूर्वी बेड़े के जहाज अंडमान-निकोबार द्वीप समूह द्वीपों के दौरे पर थे , जिनमें आईएनएस राणा, आईएनएस रणवीर, आईएनएस रंजीत, आईएनएस ज्योति, आईएनएस कुलिश, आईएनएस कृपण, आईएनएस किर्च तथा आईएनएस खुकरी शामिल थे. गमन-आगमन के दौरान विदेशों में तैनाती के लिए दक्षिण पूर्व एशिया के मार्ग में पूर्वी बेड़ा आता है।
पूर्वी बेड़े के जहाज अंडमान सागर में अपनी उपस्थिति और निगरानी मिशन अक्सर चलते रहते हैं. हम आईएनएस राणा पर गए और उसे खूब मजे से देखा.
कित्ता विशाल था यह जहाज. यह जहाज युद्ध के समय कम आता है और इस पर हेलीकाप्टर भी उतर सकता है. इस पर तोप, रडार, मिसाइल जैसे तमाम टेक्नालाजी लगी हुई हैं ताकि लड़ाई में दुश्मनों को यह जवाब दे सके. हम केबिन के अन्दर भी गए और वहाँ से बाहर का नजारा भी देखा. केबिन के अन्दर बैठकर कैप्टन और अन्य लोग पूरी गतिविधियों पर निगाह रखते हैं. अन्दर का दृश्य तो बड़ा रोमांचकारी लग रहा था. यह पूर्णतया वातानुकूलित था. चार बार तो हमें सीढियाँ चढ़नी पड़ीं. भारतीय नौसेना के इस जहाज को देखने में बड़ा मजा आया और बहुत कुछ सीखने-जानने को भी मिला. चलते-चलते हमने कैप्टन के केबिन में साथ बैठकर चाय और जूस पिया और उन्हें धन्यवाद भी दिया.
एक टिप्पणी भेजें