आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

बुधवार, जून 16, 2010

पाखी की पेंटिंग..बढ़िया है ना !!

इस संडे को मैंने एक पेंटिंग बनाई. उसमें ढेर सारे रंग भरें-काले, पीले, नीले, लाल और भी कई. अब आप बताइए कि आपको कैसी लगी मेरी यह पेंटिंग...बढ़िया है ना !!

31 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत ही सुन्दर पेन्टिंग बनाई है!! शाबास!

रंजन (Ranjan) ने कहा…

:)

संजय पाराशर ने कहा…

khub sundar penting banai aapne... pichhla bhi sab dekh. sanju ke mn ko khub bhaya.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

एकदम मॉडर्न पेंटिंग ।
बहुत बढ़िया ।

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर पाखी जी
आपमें और कौन कौन सी प्रतिभाएँ हैं

Shubham Jain ने कहा…

bahut sundar painting bachche...khub aage badho...

SKT ने कहा…

एकदम गजब की पेंटिंग! वाह भई वाह!!

Mrityunjay Kumar Rai ने कहा…

वाह , पाखी बिटियाँ तो मॉडर्न पेंटिंग कर रही है , बहुत आशीश और भविष्य की शुभकामनाएं

माधव( Madhav) ने कहा…

Congrats,
i will follow the same in near future.

दीनदयाल शर्मा ने कहा…

जैसा मन वैसा दिखता है..
पेंटिंग गज़ब बनाई है..
पाखी बिटिया तुम विदुषी..
ये कला कहाँ से पाई है...

मनोज कुमार ने कहा…

बेहतरीन। लाजवाब।

मन-मयूर ने कहा…

गज़ब पाखी..मान गए आपकी रचनात्मकता को..शत-शत बधाई !!

editor : guftgu ने कहा…

बढ़िया ही नहीं बल्कि बहुत बढ़िया है..मुबारकवाद.

Shyama ने कहा…

वाह पाखी, इस बार तो कुछ हटकर रही ये पेंटिंग...आप पर माँ सरस्वती मेहरबान हैं.

Shyama ने कहा…

..और हाँ, पाखी के हाथों के हुनर को नजर न लगे. ममा से कहकर काला धागा बँधवा लेना.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ Samir Uncle ji,

..चलिए आपने सबसे पहले शाबासी दे दी तो मान लेती हूँ कि यह पेंटिंग अच्छी बनी है.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ Sanjukranti Uncle ji,

आप पहली बार हमारे ब्लॉग पर आए हैं और पोस्टों को पसंद भी किया है...अब अपना स्नेह देने के लिए हरदम आते रहिएगा.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ M Verma Uncle ji,

..लगता है आप मुझे कोई प्यारा सा पुरस्कार देने वाले हैं, तभी पूछ रहे हैं.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ Madhav,

Thats great..

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ दीनदयाल शर्मा अंकल जी,

...मम्मी-पापा से !!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ Shyama Uncle,

आप कह रहे हैं तो जरुर बंधवा लूंगी.

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

अद्वितीय!
--
इसमें तो अखिल ब्रह्मांड के दर्शन हो रहे हैं!
--
पाखी जी,
इस रंजना से तो आपने मुझे सब कुछ दिखा दिया!

मुकेश कुमार सिन्हा ने कहा…

saare rang bhar diye tumne....:)
bhagwan kare teree jindagi me bhi aise saare saptrangi rahe........

god bless baby!!

बेनामी ने कहा…

कोई जवाब नहीं....अतिसुन्दर.

Ashok Singh Raghuvanshi ने कहा…

ha.....ha.....ha.....ha.....ha.....
very.........good..........

बेनामी ने कहा…

पेंटिंग तो बहुत ही सुन्दर है... बिलकुल मॉडर्न आर्ट :)

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मनभावन होने के कारण
"सरस पायस" पर हुई "सरस चर्चा" में
इन्हें देख मन गाने लगता!
शीर्षक के अंतर्गत
इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

संजय भास्‍कर ने कहा…

बढ़िया ही नहीं बल्कि बहुत बढ़िया

Shyama ने कहा…

Beautiful !!

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ रवि अंकल ,

सरस पायस पर जाकर देखा..मनभावन लगा. 'पाखी की दुनिया ' की चर्चा अच्छी लगी. अपना आशीर्वाद बनाये रहें.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

आप सभी को मेरी यह पेंटिंग पसंद आई..है ना मजेदार. बस अपना प्यार और आशीष यूँ ही बरसाते रहें इस नन्हीं सी गुडिया पर.