आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

सोमवार, जून 07, 2010

पाखी के लिए समीर अंकल की प्यारी सी कविता

ये देखिये हम क्या लाये. इस बार समीर अंकल जी को लाये. उन्होंने एक प्यारी सी कविता लिखी है मेरे लिए. चलिए सभी इसे पढ़ते हैं और समीर अंकल जी को ढेर सारा प्यार व थैंक्स बोलते हैं. आखिर वो सबसे अच्छे वाले अंकल और उड़न तश्तरी में घुमाने वाले अंकल जो हैं.

मम्मी-पापा मुझको पढ़ने
स्कूल में भिजवाते हैं
कक्षा में मैं अव्वल आऊँ
होमवर्क खूब करवाते हैं।


हष्ट पुष्ट और ताकतवर हूँ
बीमारी मुझको न पकड़े
इसकी खातिर नित नियम से
दूध मुझे पिलवाते है।

शाम पार्क में मम्मी लाती
मुझको खूब घूमाती है
रात में जल्दी खाना खाते
फिर सोने ले जाती है।


सोने से पहले वो मुझको
रोज कहानी बतलाती
अच्छा जीवन क्या होता है
पाठ मुझे वो सिखलाती।

अब आप जरुर बताइयेगा कि ये कविता कैसी लगी आपको. और समीर अंकल को ढेर सारा प्यार !!

40 टिप्‍पणियां:

संजय भास्‍कर ने कहा…

bahut hi sunder kavita hai...
bikul pakhi ki trhah

shukriya
pakhi aur shukriya sameer ji

संजय भास्‍कर ने कहा…

Pakhi ki bahut hi tareef kar ji sameer ji ne..

pakhi hai hi bahut pyari

ab aise hi bhoob padho khoob mauj masti karo...

रंजन (Ranjan) ने कहा…

बहुत प्यारी..


तुम जैसी..

प्यार..

दीनदयाल शर्मा ने कहा…

माँ पहली गुरु होती है....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

मेरी ओर से शुभकामनाएँ!

Sulabh Jaiswal "सुलभ" ने कहा…

वाह पाखी, बहुत पसंद आई यह कविता...!
अंकल को हमेशा याद रखना...!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

तुम्हारे अंकल ने तो बहुत अच्छी कविता लिखी है तुम्हारे लिए....बहुत बढ़िया

sanu shukla ने कहा…

सुंदर सी कविता सुंदर सी पाख़ी के लिए सुंदर से समीर भाईसाहब के द्वारा...:-)

Udan Tashtari ने कहा…

अरे वाह!! आपने तो फोटो लगाकर कविता को सुन्दर बना दिया.

मजा आ गया देखकर. बहुत प्यारी बिटिया!!

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर

Pawan Rajput ने कहा…

wah ji wah kya baat h bhut khub

Pawan Rajput ने कहा…

pakhi beta tum is kavita se kahi jyada sunder ho ..........bhagwan se dua karte hain ki .hmesha aisa hi khush raho.......

HBMedia ने कहा…

bahut pyari kavita hai bilkul aapki tarah,samir uncle ko dhanyawad meri taraph se.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बहुत अच्छी ।
समीर अंकल को धन्यवाद और आपको भी ।

Dev K Jha ने कहा…

प्यारी सी पाखी को ढेर सारा प्यार और दुलार...

माधव( Madhav) ने कहा…

बहुत अच्छी, बहुत प्यारी, बहुत बढ़िया.समीर अंकल को धन्यवाद और आपको भी

Bhattmonika@gmail.com ने कहा…

बहुत बहुत प्यारी सी कविता उतनी ही प्यारी जितनी की आप. धन्यवाद समीर जी को और प्यारी पाखी को.

एक बेहद साधारण पाठक ने कहा…

बहुत सुन्दर

Ashok Singh Raghuvanshi ने कहा…

sundar kavita......

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

पाखी जी!
आपकी इस सुन्दर पोस्ट की चर्चा मैंने यहाँ भी की है!
--
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/06/1.html

हिंदी साहित्य संसार : Hindi Literature World ने कहा…

बहुत प्यारी कविता और पाखी के लिए मन से लिखी गई सुन्दर बाल-कविता..खूब पसंद आई.

हिंदी साहित्य संसार : Hindi Literature World ने कहा…

समीर जी को भी कोटिश: धन्यवाद की पाखी के लिए उनमें इतना स्नेह है. यह उनके बड़प्पन की निशानी है.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

सोने से पहले वो मुझको
रोज कहानी बतलाती
अच्छा जीवन क्या होता है
पाठ मुझे वो सिखलाती।


बहुत सुन्दर बात कही समीर जी ने माँ के बारे में....पाखी और पाखी के सबसे अच्छे वाले अंकल समीर जी को बधाई. चाचा-भतीजी की जोड़ी तो बेजोड़ है. दोनों के ही ब्लॉग भी बिंदास हैं.

Bhanwar Singh ने कहा…

कित्ती प्यारी सी कविता. काश मैं भी पाखी के लिए इक कविता लिख पाता, पर मुझे तो कविता लिखनी आती ही नहीं.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ समीर अंकल जी,
इस कविता के लिए एक बार फिर से आपको ढेर सारा प्यार व आभार. देखा सभी लोगों ने इसे कितना पसंद किया है.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ मयंक दादा जी,
इस प्यारी सी चर्चा के लिए आभार. आपने हम बच्चों के बारे में भी सोचा, यही क्या कम है.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ भँवर अंकल,

यह आपका स्नेह है, जो आपने ऐसा सोचा..प्यार व आभार.

Akshitaa (Pakhi) ने कहा…

@ Dr. Brajesh Uncle,

है ना बेजोड़...रिश्ता ऐसा ही होना चाहिए.

Amit Kumar Yadav ने कहा…

अरे वाह, पाखी की खूबसूरत दुनिया में उड़न तश्तरी का आगमन. अब तो खूब मजा आयेगा.

Amit Kumar Yadav ने कहा…

हष्ट पुष्ट और ताकतवर हूँ
बीमारी मुझको न पकड़े
इसकी खातिर नित नियम से
दूध मुझे पिलवाते है।

...यह तो बहुत जरुरी है पाखी. मैं तो अभी भी रोज दूध पीता हूँ.

Akanksha Yadav ने कहा…

समीर जी ने तो पाखी के लिए बड़ी मनभावन कविता लिखी. सुन्दर कविता, सार्थक सन्देश...साधुवाद !!

Shahroz ने कहा…

प्यारी पाखी...सुन्दर कविता...लाजवाब फोटो.

Unknown ने कहा…

अतिसुन्दर प्रस्तुति...समीर लाल जी एवं अक्षिता बिटिया को बधाई.

बेनामी ने कहा…

पाखी की बातों और शरारतों में एक अद्भुत प्यार है, जो लोगों को अपनी ओर स्वत: आकर्षित कर लेती है. समीर जी की इस मनभावन कविता के लिए हार्दिक बधाई.

बेनामी ने कहा…

और हाँ, फोटो तो मस्त लगाई है..एक से बढ़कर एक..बधाई.

मन-मयूर ने कहा…

इससे पता चलता है कि समीर अंकल पाखी बिटिया का कितना ख्याल रखते हैं..सुन्दर बाल-गीत के लिए बधाई.

शरद कुमार ने कहा…

समीर अंकल और पाखी बिटिया दोनों को बधाई.
चाचा-भतीजी की क्या सुन्दर जोड़ी बनाई.

raghav ने कहा…

एक तो इतनी सुन्दर पाखी, उस पर से समीर जी की प्यारी कविता और उस पर से इतने न्यारे चित्र...अब इसके आगे क्या कहें.

editor : guftgu ने कहा…

कविता भी..सन्देश भी...बढ़िया है.

Shyama ने कहा…

यह कविता तो प्यारी लगी..अब मैं इसे गुनगुना रहा हूँ.