आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

रविवार, जनवरी 23, 2011

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस से मुलाकात...

आज के दिन की विशेषता क्या है...नहीं पता न आपको. चलिए मैं बताती हूँ. आज नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जी की जयंती है. जबसे अंडमान आई हूँ, नेता जी के दर्शन खूब होते हैं.
(मरीना पार्क में नेताजी की प्रतिमा)

(सेलुलर जेल की पिक्चर गैलरी में नेता जी)

(मरीना पार्क में एक सुबह पाखी और नेताजी)

(मेरे स्कूल में भी नेता जी सुभाष चन्द्र बोस)

(एक जानकारी पापा की तरफ से भी : नेताजी सुभाषचन्द्र बोस ने सर्वप्रथम पोर्टब्लेयर में ही तिरंगा फहराकर अंग्रेजों की गुलामी से भारत के इस प्रदेश को सबसे पहले आजाद किए जाने का ऐलान किया था। वह तिथि थी 30 दिसम्बर 1943 . इस दिवस की स्मृति में अंडमान क्लब के सामने व नेताजी स्टेडियम परिसर में 30 दिसम्बर स्मारक भी स्थापित किया गया है, जो द्वीपों में नेताजी के आगमन तथा तिरंगा फहराए जाने के ऐतिहासिक क्षण का मूक साक्षी है। गौरतलब है कि नेता जी ने अंडमान-निकोबार को स्वराज और शहीद द्वीपों का नया नाम भी दिया था.)


(इन्हें तो आप पहचानते ही होंगे. कैप्टन लक्ष्मी सहगल, जो कि नेता जी की अनन्य सहयोगी थीं. कादम्बिनी पत्रिका के लिए कानपुर में उनका साक्षात्कार लेते पापा)

...तो देखा, मैंने आज नेता जी सुभाष चन्द्र बोस जी से उनके जन्मदिन पर आपकी मुलाकात कराई. अब जोर से बोलियेगा- जय हिंद. आखिर यही तो उनका सबसे प्यारा नारा था.

!! जय हिंद !!
एक टिप्पणी भेजें