आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

शनिवार, सितंबर 28, 2013

पकड़ी जाती मेरी शैतानी


छुई-मुई सी मैं गुडिया 
सोच रही नई शैतानी 
पर हमेशा पकड़ी जाती
होती फिर मुझको हैरानी।

मम्मी-पापा की लाडली
करती हूँ अपनी मनमानी
मम्मी बोले बस भी करो
बंद करो अपनी शैतानी।

(चित्र : अपूर्वा)
एक टिप्पणी भेजें