आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

मंगलवार, अप्रैल 17, 2012

वाह..क्या आम हैं !!

मुझे तो आम खाना बहुत अच्छा लगता है. अंदमान में तो साल भर में दो-तीन बार आम होते थे, पर यहाँ इलाहाबाद में अब जाकर आम के दर्शन हुए हैं
जब हम आपने घर में शिफ्ट हुए तो आम के पेड़ों पर सिर्फ बौर थीं, और आज जाकर देखा तो खूब सारे आम आ गए हैं.
फलों के राजा आम को इत्ते करीब से मैंने पहली बार देखा है. अब तो लगता है , जल्दी से ये बड़े होकर पीले-पीले हो जाएँ, फिर इन्हें खूब खाऊन्गी.


!! मेरे मुंह में तो इन्हें देखकर ही पानी आ रहा है !!
एक टिप्पणी भेजें