आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

बुधवार, अगस्त 25, 2010

मैंने भी नारियल का फल पेड़ से तोडा ...

आपको पिछली बार अपनी मायाबंदर की सैर के बारे में बताया था ना. अब देखिये , वहाँ कैसे मैंने नारियल का मजा लिया. बड़े नारियल-छोटे नारियल. नारियल का पेड़ कित्ता लम्बू होता है, मैं तो उस पर चढ़ भी नहीं सकती....पर नारियल कित्ता भारी होता है. मुझे तो इसे पकड़ने में बड़ी मेहनत करनी पड़ी. पर मुझे नारियल का पानी पीने से भला ही कोई रोक सकता है.
मायाबंदर गेस्ट-हॉउस परिसर में जब मैं ममा-पापा के साथ घूम रही थी तो मुझे वहाँ एक छोटा सा नारियल का पेड़ भी देखा. फिर क्या था, मैंने हाथ बढाकर एक नारियल तोड़ लिया. वाह, कित्ता खुश हुई मैं कि मैं भी आपने हाथ से नारियल का फल तोड़ सकती हूँ...यह नारियल का पेड़ तो अभी लम्बू नहीं हुआ है. हुर्रे....
एक टिप्पणी भेजें