आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

मंगलवार, सितंबर 21, 2010

करमाटांग बीच पर मस्ती...

पिछले दिनों मम्मा-पापा के साथ मायाबंदर घूमने गई तो वहाँ का करमाटांग बीच भी देखा. लोग बता रहे थे कि सुनामी ने इस बीच को काफी नुकसान पहुँचाया. रास्ते में मैंने एक घर ऐसा भी देखा जो सुनामी के चलते पूरा जमीन में घुस गया था.यहाँ पर हम बच्चों के लिए एक अच्छा पार्क भी था, जो अब तो ख़राब हो चुका है. फिर भी मुझे यहाँ मस्ती करने से कौन रोक सकता है.मैंने वहाँ पर झूले का भी मजा लिया.और मेरा यह अंदाज़ आपको कैसा लगा. जरा इस नारियल के पेड़ पर तो चढ़ कर देखूं. कित्ता मोटा है, मैं तो इसे पकड़ भी नहीं सकती. कित्ती धूप लग रही है. जरा यहाँ चढ़कर भी तो समुद्र को देख लूं कि कित्ता बड़ा है. बड़ा मजा आया यहाँ...खूब मस्ती की, झूला झूला, खूब दौड़ी पेड़ों के बीच, पर बीच पर नहा नहीं पाई क्योंकि सूरज दादा परेशान कर रहे थे और तट पर पानी भी खूब नहीं दिख रहा था.

एक टिप्पणी भेजें