आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

शुक्रवार, अप्रैल 23, 2010

पुरानी पुस्तकें रद्दी में नहीं बेचें, उनकी जरुरत है किसी को

अब मैं नियमित रूप से स्कूल जाने लगी हूँ। स्कूल जाती हूँ तो नई-नई बातें भी पता चलती हैं. रोज मनाये जाने वाले तमाम दिवसों के बारे में भी जानकारी मिलती है. कल टीचर ने 'विश्व पृथ्वी दिवस' के बारे में बताया था, आज ' विश्व पुस्तक दिवस' के बारे में जानकारी दी.

मुझे तो अपनी पुस्तकें पढना बहुत अच्छा लगता है। कभी राइम, कभी ड्राइंग...कित्ता मजा आता है. मैं अपनी पुस्तकें खूब अच्छे से रखती हूँ, नहीं तो पुरानी और गन्दी नहीं हो जायेंगीं. हमारे देश में कई लोग ऐसे हैं, जो पढ़ना तो चाहते हैं पर उनके पास पुस्तक खरीदने के लिए पैसे ही नहीं.

जब मैं कानपुर से अंडमान आ रही थी तो वहाँ एक अनाथालय में गई थी। इन सभी के मम्मी-पापा नहीं थे। कुछ तो पढ़ना चाहते हैं, पर कोई मदद करने वाला नहीं। फिर मैंने उनके लिए कुछ किताबें खरीदीं और साथ में अपनी तमाम पुरानी पुस्तकों को भी लेकर उन सभी को दे दिया. उस दिन वे बहुत खुश हुए.

आज विश्व पुस्तक दिवस है..आप भी कुछ ऐसा ही कीजिये ताकि हर बच्चा पढ़ सके. अपने घर में पुरानी हो चुकी पुस्तकें रद्दी में बेचने की बजाय उन लोगों तक पहुँचा दीजिये, जिन्हें वाकई इसकी जरुरत है।
और चलते-चलते "विश्व पुस्तक दिवस" पर यह कविता। इसे मेरे पापा ने लिखा है.....
प्यारी पुस्तक, न्यारी पुस्तक
ज्ञानदायिनी प्यारी पुस्तक
कला-संस्कृति, लोकजीवन की
कहती है कहानी पुस्तक।

अच्छी-अच्छी बात बताती
संस्कारों का पाठ पढ़ाती
मान और सम्मान बड़ों का
सुन्दर सीख सिखाती पुस्तक।

सीधी-सच्ची राह दिखाती
ज्ञान पथ पर है ले जाती
कर्म और कर्तव्य हमारे
सद्गुण हमें सिखाती पुस्तक।
( इस पोस्ट की चर्चा झिलमिल करते सजे सितारे (चर्चा मंच-131) के अंतर्गत भी देखें )
एक टिप्पणी भेजें