आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

शुक्रवार, अगस्त 15, 2014

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा


सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा

हम बुलबुले हैं उसकी, ये गुलिस्तां हमारा
पर्वत वो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमां का
वो संतरी हमारा, वो पासवाँ हमारा
सारे जहाँ .............................
गोदी में खेलती हैं, जिसकी हजारों नदियाँ
गुलशन हैं जिसके दम से रश्के जिना हमारा
सारे जहाँ............................
मजहब नहीं सिखाता, आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम(2),वतन है, हिन्दोस्तां हमारा
सारे जहाँ से..........................



स्वतंत्रता दिवस पर हमने पापा के लिए यह प्यारा सा राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा बनाया। वाकई यह दिन हम सभी की जिंदगी में कितना मायने रखता है। एक तरफ ख़ुशियाँ तो दूसरी तरफ जिम्मेदारी का एहसास। स्वतंत्रता दिवस पर आप सभी को बधाईयाँ !!







एक टिप्पणी भेजें