आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

रविवार, सितंबर 29, 2013

'जनसंदेश टाइम्स' में चहकी अक्षिता की 'नन्ही गौरैया'

इधर कई पत्र-पत्रिकाओं में मेरी रचनाएँ और ड्राइंग प्रकाशित हुई हैं।  'जनसंदेश टाइम्स' अख़बार (28 सितम्बर, 2013) के बाल बाड़ी पेज (सा रे ग म, पृष्ठ संख्या-9) पर मेरी (अक्षिता (पाखी) की) एक बाल -कविता 'नन्ही गौरैया' प्रकाशित हुई हैं। इसे आप भी पढ़ सकते हैं।



पर सबसे अच्छी बात तो यह रही कि इसी पेज पर ममा का भी एक आलेख 'इस होनहार बेटी को सलाम' शीर्षक से प्रकाशित हुआ है , जो  कि  उनके ब्लॉग 'शब्द-शिखर' से लिया गया है। 

एक टिप्पणी भेजें