आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

रविवार, जून 30, 2013

आकाश में तारों के बीच से गुजरते हुए अद्भुत दुनिया की सैर

आकाश में तारों के बीच से गुजरते हुए उनकी अद्भुत दुनिया की सैर करना कितना अच्छा लगता है। यह हमने महसूस किया आनंद भवन, इलाहाबाद स्थित जवाहर प्लेनेटेरियम (Planetarium) की यात्रा करके। 


जवाहर प्लेनेटेरियम के अन्दर प्रवेश से पहले ही हमें बताया गया कि अगर आप अंतरिक्ष में गए बगैर ही खगोलीय दुनिया की तमाम जानकारियों से लैस होना चाहते हैं तो जवाहर प्लेनेटेरियम आपका बेहतर दोस्त हो सकता है। इसकी मदद से आप रोचक, रोमांचक तरीके से आकाश में तारों के बीच से गुजरते हुए उनकी अद्भुत दुनिया की सैर कर सकते हैं। नई विषयवस्तु पर तैयार दो नए सूचनाप्रद और मनोरंजक कार्यक्रम खगोलीय दुनिया के रहस्यों को सरल तरीके से समझाएंगे।


फिर तो हम तुरंत इस यात्रा के लिए तैयार हो गए। प्लेनेटेरियम के अन्दर जाकर अपनी-अपनी कुर्सियों पर बैठ गए और कुछेक देर बाद ही आरंभ हुई झिलमिल तारों के साथ एक सुन्दर सैर। पहले चरण में ‘जर्नी टू इनफिनीटी’ में पृथ्वी से आगे गहन अंतरिक्ष की यात्रा कराई गई। तारों के बीच से गुजरना बेहद रोमांचक अनुभव लगा। 

गौरतलब है कि ‘जर्नी टू इनफिनीटी’ उसी अमेरिकी कंपनी की ओर से तैयार की गई है जिसकी मदद से पिछले दिनों प्लेनेटेरियम को नया और आधुनिक रूप मिला। यहाँ प्लेनेटेरियम टीम ने इसका हिन्दी अनुवाद करते हुए रिकार्डिंग, वायसओवर से लेकर प्रोसेसिंग तक से इसे नया रूप दिया।


दूसरे चरण में ‘तारों की सैर’ में 88 तारामंडलों में से कई के बारे में जानकारी दी गई । इसके तहत तारों को पहचानने के तरीके और विशेष तारों की दुनिया से जुड़ी जानकारियां भी दी गईं।  



यहाँ आप अपने को अन्तरिक्ष यात्री  (Astronaut) के रूप में भी देख सकते हैं। यह भी एक रोचक अनुभव रहा।

जवाहर प्लेनेटेरियम के बाहर एक मिसाइल को भी दर्शाया गया है। 

अर्थात खेल-खेल में बच्चों को सीखने को यहाँ बहुत कुछ है।

वाकई जवाहर प्लेनेटेरियम में तारों के साथ यह सैर एक खूबसूरत अनुभव रहा। अक्षिता और अपूर्वा तो बेहद रोमांचित थीं। 

एक टिप्पणी भेजें